भारत का सर्वोच्च न्यायालय : महत्वपूर्ण तथ्य

2284
Supreme Court of India

 

भारत का सर्वोच्च न्यायालय

 

संविधान के अध्याय चार के अंतर्गत अनुच्छेद 124-147 तक सर्वोच्च न्यायालय की संरचना एवं शक्तियों का विवरण है।
संविधान के अनुच्छेद 124 के अंतर्गत भारत के एक सर्वोच्च न्यायालय का प्रावधान है। मूल संविधान के अंतर्गत सर्वोच्च न्यायालय में एक मुख्य न्यायाधीश और सात अन्य न्यायाधीशों की व्यवस्था की गयी थी. लेकिन अनुच्छेद 124 के अंतर्गत संसद को यह अधिकार दिया गया है कि वह विधि द्वारा न्यायाधीशों की संख्या को बढ़ा सकती है। संसद ने अपनी अधिकारिता का प्रयोग करते हुवे 1956 में सर्वोच्च न्यायालय के न्यायाधीशों की संख्या अधिनियम पारित करके अन्य न्यायाधीशों की संख्या को सात से बढ़ाकर दस, 1960 में तेरह, 1977 में सत्रह तथा 1986 में पच्चीस कर दी. वर्तमान में 2008 के अधिनियम के अंतर्गत सर्वोच्च न्यायालय में एक मुख्य न्यायाधीश के अतिरिक्त तीस अन्य न्यायाधीशों की नियुक्ति हो सकती है

 

1. भारत के सर्वोच्च न्यायालय की स्थापना भारत सरकार अधिनियम, 1935 के अधीन हुई थी
2. सर्वोच्च न्यायालय के प्रथम मुख्य न्यायाधीश हीरालाल जे. कानिया थे
3. उच्चतम न्यायालय को परामर्शदात्री अनुच्छेद 143 में  बनाया गया है
4. जब राष्ट्रपति और उपराष्ट्रपति दोनों के पद खाली हो, तब उनके काम भारत के मुख्य न्यायाधीश करेगा
5. मूल रूप से संविधान में सर्वोच्च न्यायालय में मुख्य न्यायाधीश के अतिरिक्त 7 न्यायाधीश की व्यवस्था थी
6. सेवानिवृत्ति के पश्चात् उच्च न्यायालय के न्यायाधीश सर्वोच्च न्यायालय तथा अन्य उच्च न्यायालय दोनों में  वकालत कर सकते है
7. उच्चतम न्यायालय के न्यायाधीशों की संख्या में वृद्धि करने की शक्ति संसद के पास है
8. जनहित याचिका दायर उच्च न्यायालय में सर्वोच्च न्यायालय में की जा सकती है
9. सर्वोच्च न्यायालय किसे हटाने के लिए राष्ट्रपति से सिफारिश संघ लोक सेवा आयोग के अध्यक्ष व सदस्यो को कर सकता है
10. सर्वोच्च न्यायालय में न्यायिक काम-काज के लिए अंग्रेजी भाषा का प्रयोग किया जाता है

11. भारत में स्वतंत्र न्यायपालिका है

12. सर्वोच्च न्यायालय में तदर्थ न्यायाधीशों की नियुक्ति फ्रांस देश की न्याय प्रणाली से प्रेरित है
13. सर्वोच्च न्यायालय के न्यायाधीशों को उसके पद से केवल असमर्थता प्रमाणित आधारों पर हटाया जा सकता है?
14. उच्चतम न्यायालय की सबसे पहली महिला न्यायाधीश फातिमा बीबी थी
15. भारत में एकीकृत न्यायपालिका का स्वरूप है
16. संविधान के व्याख्याकार और संरक्षक सर्वोच्च न्यायालय हैं
17. न्यायिक पुनर्विलोकन का अधिकार उच्चतम न्यायालय है
18. सर्वोच्च न्यायालय के मुख्य न्यायाधीश के पद पर सर्वाधिक लम्बी अवधि तक वाई. वी. चन्द्रचूड़ पदस्थ रहा
19. सर्वोच्च न्यायालय के मुख्य न्यायाधीश के पद पर सबसे कम समय तक कमल नारायण सिंह आसीन रहा
20. भारत के जस्टिस एम. हिदायतुल्ला मुख्य न्यायाधीश ने राष्ट्रपति के रूप में काम किया

अनु0 124 के अनुसार राष्ट्रपति जी मुख्य न्यायाधीश की नियुक्ति में उच्चतम न्यायालय एवं अन्य न्यायाधीशों की नियुक्ति में मुख्य न्यायाधीश से परामर्श लेंगे।

उच्चतम न्यायालय के जजों की योग्यता

  1. वह भारत का नागरिक हो।

  2. वह एक या दो या अधिक उच्चन्यायालय में कम-से-कम 10 वर्षों तक वकालत कर चुका हो। अथवा

  3. राष्ट्रपति की राय में कुशल विधिवेत्ता हो।

पदावधि:-

  • सुप्रीमकोर्ट के जजों का कार्यकाल अधिकतम 65 वर्ष होगा। इसके पूर्व वह अपना त्यागपत्र राष्ट्रपति जी को दे सकते हैं। या अनु0 124 एवं अनु0 125 की प्रक्रिया के अनुसार संसद की सहमति से राष्ट्रपति जी हटा सकते हैं।

  • हटाने की प्रक्रिया:- सुप्रीम कोर्ट के जजों को सिद्ध कदाचार या असमर्थता के आधार पर हटाया जाता है। हटाने का प्रस्ताव संसद में आता है। यदि लोकसभा से लाना है, लोकसभा के 100 सदस्यों की पूर्व सहमति आवश्यक है। यदि राज्यसभा में लाना है, तो राज्यसभा के 50 सदस्यों की पूर्व सहमति आवश्यक है। तदोपरान्त् सदन में प्रस्ताव सर्वप्रथम कुल सदस्यों के बहुमत से पुनः उपस्थित और मतदान में भाग लेने वाले सदस्यों के दो तिहाई बहुमत से पास होगा पुनः प्रस्ताव को तीन सदस्यीय जाँच समिति को भेजा जायेगा। जाँच समिति से पास प्रस्ताव को दूसरा सदन पहले कुल सदस्यों के बहुमत से पास करेगा पुनः प्रस्ताव को उपस्थित सदस्यों के दो तिहाई बहुमत से पास करेगा। पुनः प्रस्ताव को वोट देने वाले सदस्यों के दो तिहाई बहुमत से पास करेगा। अन्त में इस इस प्रस्ताव पर राष्ट्रपति जी उस जज को बर्खास्त करेंगे।

  • सुप्रीम के जज वी0 रामास्वामी के खिलाफ सर्वप्रथम 11 मई 1993 को पद से हटाने का प्रस्ताव सदन में आया, परन्तु पास नहीं हो सका। दूसरी बार 2011 में कलकत्ता हाईकोर्ट के जज सौमित्र सेन के विरूद्ध प्रस्ताव राज्यसभा से पास हो गया और लोकसभा में प्रक्रिया में था कि सौमित्र सेन ने त्यागपत्र दे दिया।

  • रिटायर होने के बाद सुप्रीम कोर्ट का जज किसी भी न्यायालय में वकालत नहीं करेंगे।

 

  • राम जन्म भूमि मामले पर सुप्रीम कोर्ट ने परामर्श देने से इंकार कर दिया था और कहा था कि यह राजनीतिक मामला है।

  • संवैधानिक मामलों पर परामर्श देने हेतु कम-से-कम पांच जजों की बेंच होनी चाहिए।

  • अनु0 135 के अनुसार फेडरल न्यायालय का क्षेत्राधिकार उच्चतम न्यायालय में होगा।

  • अनु0 137 के अनुसार सुप्रीम कोर्ट अपने निर्णय पर पुनर्विचार कर सकती है। उल्लेखनीय है कि न्यायिक पुनर्विलोकन का आधार अनु0 13 है।

  • अनु0 139 के अनुसार संसद विधि बनाकर अनु0 32 के अतिरिक्त (मूलाधिकार) अन्य प्रयोजनों हेतु रिट जारी करने का अधिकार सुप्रीम कोर्ट को दे सकती है।

  • अनु0 145 के अनुसार सुप्रीम कोर्ट का निर्णय अन्य न्यायालयों पर बाध्यकारी होगा।

  • भारत का प्रथम मुख्य न्यायाधीश हीरालाल जे. कनिया थे।

  • सर्वाधिक लम्बा कार्यकाल वाई वी चन्द्रचूड़ का था।

  • सबसे छोटा कार्यकाल कमल नारायण सिंह का था।

  • राष्ट्रीय न्यायिक अकादमी की स्थापना भारत सरकार द्वारा की गई। (दिल्ली)

 

 

न्यायाधीशों को उनके पद से हटाने की प्रक्रिया को सामान्य तौर पर “महाभियोग” के नाम से जाना जाता है। लेकिन संविधान में इसके लिए “महाभियोग” (इम्पीचमेंट) शब्द का प्रयोग न करके “हटाना” (रिमूवल) शब्द का प्रयोग किया गया है। “महाभियोग” शब्द का प्रयोग केवल राष्ट्रपति को उनके पद से हटाने के सन्दर्भ में किया गया है। सुभाष कश्यप के अनुसार महाभियोग की कार्यवाही में सदन से प्रस्ताव पारित होते ही राष्ट्रपति पद से पदच्युत हो जाते हैं जबकि न्यायाधीश को हटाने की प्रक्रिया में सदन से प्रस्ताव पारित होने के बाद उसपर राष्ट्रपति आदेश जारी करने के बारे में विचार करता है।

. सर्वोच्च न्यायालय की अधिकारिता एवं शक्ति

भारत के सर्वोच्च न्यायालय को काफी विस्तृत शक्ति प्रदान की गई है। इसकी अधिकारिता और शक्तियों की प्रकृति और विस्तार को देखते हुए यह किसी भी अन्य देश की न्यायपालिका की तुलना में ज्यादा शक्तिशाली प्रतीत होता है।

भारत का सर्वोच्च न्यायालय एक परिसंघ न्यायालय भी है, अपीलीय न्यायालय भी है और संविधान का संरक्षक भी है। साथ ही यह एक अभिलेख न्यायालय भी है, यानि इसके निर्णय सभी अधिनस्थ न्यायालयों के लिए बाध्यकारी हैं। इसकी कार्यवाहियों तथा निर्णयों के अभिलेख/रिकार्ड रखे जाते हैं तथा इसका प्रयोग साक्ष्य के रूप में किया जा सकता है।

संविधान के अनुच्छेद 129 में स्पष्ट शब्दों में उच्चतम न्यायालय को अभिलेख न्यायालय बताते हुए इसके आदेशों की अवमानना की स्थिति में इसे दंड देने की शक्ति प्रदान की गई है। उच्चतम न्यायालय को मुख्य रूप से तीन तरह की अधिकारिता प्रदान की गई है: (1) आरंभिक अधिकारिता (2) अपीलीय अधिकारिता एवं (3) परामर्शकारी अधिकारिता।

1. भारत के सर्वोच्च न्यायालय की स्थापना हुई थी–
(A) 1950 के संसद के एक अधिनियम द्वारा (B)
भारतीय स्वाधीनता अधिनियम, 1947 के अधीन
(C) भारत सरकार अधिनियम, 1935 के अधीन (D)
भारतीय संविधान के द्वारा
2. सर्वोच्च न्यायालय के प्रथम मुख्य न्यायाधीश
कौन थे?
(A) हीरालाल जे. कानिया (B) के. एन. वांचू (C)
एस. एस. सीकरी (D) व्हाई. वी. चन्द्रचूड़
3. उच्चतम न्यायालय को परामर्शदात्री बनाया गया
है–
(A) अनुच्छेद 124 में (B) अनुच्छेद 137 में (C)
अनुच्छेद 143 में (D) अनुच्छेद 148 में
4. जब राष्ट्रपति और उपराष्ट्रपति दोनों के पद
खाली हो, तब उनके काम कौन करेगा?
(A) प्रधानमंत्री (B) गृहमंत्री (C) भारत के मुख्य
न्यायाधीश (D) लोकसभाध्यक्ष
5. मूल रूप से संविधान में सर्वोच्च न्यायालय में मुख्य
न्यायाधीश के अतिरिक्त कितने न्यायाधीश की
व्यवस्था थी?
(A) 6 (B) 7 (C) 9 (D) 12
6. सेवानिवृत्ति के पश्चात् उच्च न्यायालय के
न्यायाधीश वकालत कर सकते है–
(A) केवल सर्वोच्च न्यायालय में (B) केवल उच्च
न्यायालय में
(C) सर्वोच्च न्यायालय तथा अन्य उच्च न्यायालय
दोनों में (D) किसी भी न्यायालय में नहीं
7. उच्चतम न्यायालय के न्यायाधीशों की संख्या में
वृद्धि करने की शक्ति किसके पास है?
(A) प्रधानमंत्री (B) राष्ट्रपति (C) संसद (D) विधि
मंत्रालय
8. जनहित याचिका दायर की जा सकती है–
(A) उच्च न्यायालय में (B) सर्वोच्च न्यायालय में
(C) उपर्युक्त दोनों में (D) इनमें से किसी में नहीं
9. सर्वोच्च न्यायालय किसे हटाने के लिए राष्ट्रपति
से सिफारिश कर सकता है?
(A) मंत्रिपरिषद् के किसी भी सदस्य को (B) संघ
लोक सेवा आयोग के अध्यक्ष व सदस्यो को
(C) लोकसभाध्यक्ष को (D) उपर्युक्त सभी को
10. सर्वोच्च न्यायालय में न्यायिक काम-काज के
लिए किस भाषा का प्रयोग किया जाता है?
(A) हिन्दी (B) अंग्रेजी (C) हिन्दी व अंग्रेजी दोनों
(D) 8वीं अनुसूची में शामिल कोई भी भाषा
11. भारत में न्यायपालिका है–
(A) स्वतंत्र (B) संसद के अधीन (C) राष्ट्रपति के
अधीन (D) प्रधानमंत्री के अधीन
12. सर्वोच्च न्यायालय में तदर्थ न्यायाधीशों की
नियुक्ति किस देश की न्याय प्रणाली से प्रेरित है?
(A) ऑस्ट्रेलिया (B) कनाडा (C) संयुक्त राष्ट्र
अमेरिका (D) फ्रांस
13. सर्वोच्च न्यायालय के न्यायाधीशों को उसके पद
से केवल किन प्रमाणित आधारों पर हटाया जा सकता
है?
(A) कदाचार (B) असमर्थता (C) उपर्युक्त दोनों
(D) उपर्युक्त में से कोई नहीं
14. निम्नलिखित में उच्चतम न्यायालय की सबसे
पहली महिला न्यायाधीश कौन थी?
(A) सुनन्दा भण्डारे (B) लीला सेठ (C) फातिमा
बीबी (D) इन्दिरा जय सिंह
15. भारत में न्यायपालिका का स्वरूप है–
(A) विकेन्द्रीकृत (B) एकीकृत (C) सामूहिक (D)
व्यावहारिक
16. संविधान के व्याख्याकार और संरक्षक कौन हैं?
(A) राष्ट्रपति (B) संसद (C) सर्वोच्च न्यायालय
(D) भारत का महाधिवक्ता
17. न्यायिक पुनर्विलोकन का अधिकार किसे है?
(A) उच्च न्यायालय (B) उच्चतम न्यायालय (C)
राष्ट्रपति (D) लोकसभा
18. सर्वोच्च न्यायालय के मुख्य न्यायाधीश के पद
पर सर्वाधिक लम्बी अवधि तक कौन पदस्थ रहा?
(A) हीरालाल जे. कानिया (B) के. एन. वांचू (C)
एस. एस. सीकरी (D) वाई. वी. चन्द्रचूड़
19. सर्वोच्च न्यायालय के मुख्य न्यायाधीश के पद
पर सबसे कम समय तक कौन आसीन रहा?
(A) पी. बी. गजेन्द्रगड़कर (B) के. सुब्बाराव (C)
कमल नारायण सिंह (D) एम. एच. बेग
20. निम्नलिखित में से भारत के किस मुख्य
न्यायाधीश ने राष्ट्रपति के रूप में काम किया?
(A) जस्टिस एम. हिदायतुल्ला (B) जस्टिस मेहर चंद
महाजन
(C) जस्टिस पी. एन. भगवती (D) जस्टिस बी. के.
मुखर्जी

सही उत्तर–
1.(C), 2.(A), 3. (C), 4.(C), 5.(B), 6.(C), 7.
(C), 8.(C), 9.(B), 10.(B),
11.(A), 12.(D), 13.(C), 14.(C), 15.(B), 16.
(C), 17.(B), 18.(D), 19.(C), 20.(A)

 

SHARE

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here